लॉकडाउन क्या होता है ? क्या प्रभाव डालेगा? 

लॉकडाउन क्या होता है ? क्या प्रभाव डालेगा?

क्‍या होता है लॉकडाउन? लॉकडाउन का मतलब है कि इस दौरान आपातकालीन/आवश्‍यक सेवाओं को छोड़कर सभी सेवाओं पर रोक लगा दी जाती है। लॉकडाउन की स्थिति में किसी भी शख्स को जीवन जीने के लिए बुनियादी और आवश्यक चीजों को लेने के लिए ही बाहर निकलने की इजाजत होती है। जैसे अगर किसी को राशन, दवा, सब्जी की जरूरत है तो वह बाहर जा सकता है। साथ ही एटीएम और अस्‍पताल भी खुले रहते हैं। लॉकडाउन का मतलब कर्फ्यू नहीं होता है। कर्फ्यू के वक्‍त राशन और दूध जैसी आवश्‍यक दुकानें भी बंद रहती हैं। लॉकडाउन का फैसला लेते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सह-सचिव लव अग्रवाल ने कहा था, 'लॉकडाउन से लोगों को थोड़ी असुविधा ज़रूर होगी, लेकिन इसके पीछे की नीयत को समझने की जरूरत है। कोरोना महामारी से बचने के लिए यह तरीका पूरी दुनिया अपना रही है।

क्या होता है लॉकडाउन हालातों में?
  • एक लॉकडाउन आमतौर पर लोगों को सेवा जारी रखने के लिए आवश्यक आपूर्ति, किराना स्टोर, मेडिकल स्टोर, बैंक, पेट्रोल पंप की अनुमति देता है। आवश्यक आपूर्ति में आते हैं : किराना, पेय, दूध, ताज़ा फल और सब्जियां, पीने का पानी।
  • टेलीकॉम ऑपरेटर इकाइयां और इन्शुरन्स कंपनी भी खुली होती हैं।
  • पोस्ट ऑफिस खुले होते हैं।
  • यातायात सेवायें (सिर्फ आवश्यक आपूर्ति के लिए) चालू होती हैं।
  • खाने का सामन उपलब्ध कराने और दवाई बनाने वाली इकाइयां भी खुली होती हैं।
  • लोगों से अपेक्षा की जाती है की वे अपने घर में ही रहें।
  • लोग बिना किसी ठोस वजह के घर से ना निकलें।
  • बिना किसी कारण के बाहर घूमना भी मौलिक रूप से गलत माना जाता है।
  • घर से काम करने की इज़ाज़त होती है।

Post a Comment

Previous Post Next Post